श्री माता वैष्णो देवी श्राइन बोर्ड
आधिकारिक वेबसाइट

 
   
   
       
       
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
पंजीकरण (रजिस्ट्रेशन)
 

कटरा पहुंचने पर तीर्थ यात्री को सबसे अधिक महत्वपूर्ण काम यह करना होता है कि वह अपनी यात्रा का पंजीकरण करवा ले। कटरा बस स्टैंड के निकट यात्री रजिस्ट्रेशन कांऊटर (वाई आर सी) पर यात्रा पंजीकरण किया जाता है।

 
यात्रा पंजीकरण ऑन लाइन भी संभव है। और अधिक जानिए
 

बिना किसी छूट के सभी यात्रियों को यात्रा आरम्भ करने से पूर्व अपनी यात्रा का पंजीकरण कराना पड़ता है। पंजीकरण का काम श्री माता वैष्णो देवी श्राइन बोर्ड द्वारा किया जाता है। सिर्फ बोर्ड ही इस कार्य को करने के लिए कानूनी रूप से अधिकृत संस्था है। अन्य कोई भी निजी या सार्वजनिक संस्था यात्रा पर्ची देने के लिए अधिकृत नहीं है। पंजीकरण का कार्य निशुल्क और पूरी तरह कम्प्यूट्रीकृत है। यात्रा पंजीकरण का कार्य कटरा बस स्टैंड के निकट यात्री रजिस्ट्रेशन कांऊटर जो वाई आर सी के नाम से प्रसिद्ध है पर किया जाता है। यात्रा पंजीकरण के लिए प्रत्येक यात्री का तत्काल फोटो खींचा जाता है। उसके नाम और अन्य जानकारी का पंजीकरण कर लेने के बाद उसे यात्रा एसेस कार्ड (यात्रा स्लिप/पर्ची) दे दिया जाता है। यह पर्ची उन्हें प्रमुख पवित्र मंदिर की यात्रा करने की लिखित अनुमति होती है। इस यात्रा पर्ची के दिए जाने के 6 घण्टे के अंदर यात्री को वाई आर सी से लगभग 1.5 किलोमीटर आगे बाणगंगा में लगी पहली जांच चौकी को पार करना होता है। ऐसा न करने की स्थिति में उसकी पर्ची को जांच चौकी पर जब्त कर लिया जाता है और यात्री को फिर से पूरी तरह नयी पर्ची लेना पड़ती है। यात्रा पंजीकरण का सारा काम सुविधापूर्ण, कुशल और सुचारु बनाए रखने के लिए पूरी तरह कम्प्यूटरीकृत है। यह ध्यान रहे कि बिना यात्रा पर्ची के यात्रा पर चल पड़े यात्री को बाणगंगा जांच चौकी से लौटा दिया जाता है। उसे वहां से आगे नहीं बढ़ने दिया जाता। यह तो आसाधारण केस ही है कि अगर कोई व्यक्ति भवन/भवन के रास्ते पर बिना यात्री पर्ची के पकड़ा जाता है तो न केवल उसे वापस लौटा ही दिया जाएगा बल्कि उस पर अनुशासनात्मक कार्यवाई भी की जाएगी।

 
 
महत्वपूण: प्रत्येक श्रद्धालु तीथ यात्री को अलग से यात्रा पची दी जाती है।
 

यात्रा कांऊटर नंबर-II
प्रमुख वाई आर सी पर प्रतीक्षा का समय घटाने के लिए दूसरे बस स्टैंड के पास एक दूसरा यात्रा कांऊटर संचालित कर दिया गया है। यह उधमपुर जाने वाली सड़क पर प्रमुख यात्रा कांऊटर से लगभग एक किलोमीटर दूर है और वाई आर सी प्प् कहलाता है। यह इस तरह से निर्मित किया गया है कि वाई आर सी प्प् के निकट का क्षेत्र यात्री बसों और लग्ज़री कोचों की पार्किंग के लिए आदर्श स्थान है और उन तीर्थ यात्रियों के लिए जो इन कोचो से कटरा पहंुचते हैं वाई आर सी प्प् से यात्रा पर्ची प्राप्त कर लेना आसान और सुविधापूर्ण रहता है।

 

प्रतीक्षा पर्ची (वेटिंग स्लिप)
क्योंकि पवित्र त्रिकुटा पर्वत पर रुकने का स्थान सीमित है, एक दिन में अधिक से अधिक 30000-35000 यात्री ही दर्शन कर पाते हैं। भारी भीड़ के दिनों में पहुंचने वाले यात्रियों की संख्या इससे कहीें अधिक हो जाती है। ऐसी स्थिति में यात्रियों को कटरा में ही रुकने के लिए कहा जाता है। इस स्थिति को वेटिंग कहा जाता है और वेटिंग के दौरान कोई यात्रा पर्ची नहीं दी जाती। वेटिंग की स्थिति असुविधापूर्ण है परंतु पवित्र पहाड़ी की भौगोलिक सीमाओं को देखते हुए यात्रा आरम्भ करने से पूर्व वेबसाइट पर यात्रा स्थिति की जांच कर लें। साधारणयता मई जून के सप्ताहांत और 15 दिसंबर के बाद या अन्य स्कूल/कालेज/कार्यालय में छुट्टियों के दिनों में लगातार और अत्याधिक भीड़ रहती है जिसमें वेटिंग आवश्यक हो जाती है।

 

 

पंजीकरण की जरुरत और महत्व

 

वाई आर सी पर पंजीकरण निम्नलिखित कारणों से आवश्यक है।

 

इस तरह इन उपर्युक्त कारणों से रास्ते पर और प्रमुख मंदिर परिसर में यात्रियों की संख्या नियमित रखने की आवश्यकता बनी रहती है। यह नियम अत्याधिक भीड़ और दुर्घटनाओं से बचाव में सहायक सिद्ध होता है और यह भी निश्चित कर देता है कि सभी तीर्थ यात्रियों को भोजन और पानी जैसी आधारभूत सुविधाएं प्राप्त हों।

 
 
नया क्या हैt | निविदाएं |  भर्ती  |  अध्ययन रिपोर्ट  |  डाउनलोड  |  हमारे साथ बातचीत
Shri Amarnathji Shrine Board - Official Website Shiv Khori Shrine